Dalip Shree Shyam Comp Tech. 9811480287
 
top
Facebook Twitter google+ Whatsapp

श्री खाटूश्याम जी भजन


मीठे रस से भरयोरी राधा रानी लागै
म्हानै कारो कारो जमुना जी रो पाणी लागै

।। अन्तरा।।

जमुना मैया कारी कारी, राधा गोरी-गोरी

वृन्दावन में धूम मचावै, बरसाणै री छोरी

ब्रजधाम राधाजी की ‘रजधानी लागै’-2

म्हानै कारो कारो...............................।।1।।

 

कान्हा नित मुरली में टेरे, सुमिरे बारम्बार

कोटिन रूप धरै मन मोहन, कबहूँ न पाये पार

रूप रंग की छबीली ‘पटरानी लागै’-2

म्हानै कारो कारो...............................।।2।।

 

ना भावै मनै माखन मिसरी, अब ना कोई मिठाई

जीभड़या नै भावै अब तो राधा नाम मलाई

वृषभान की लली तो ‘गुड़धानी लागै’-2

म्हानै कारो कारो...............................।।3।।

 

राधा राधा नाम रटत है, जो नर आठों याम

उनकी बाधा दूर करत है, राधा राधा नाम

राधा नाम से सफल ‘जिन्दगानी लागै’-2

म्हानै कारो कारो...............................।।4।।

।। इतिश्री।।

bottom