Dalip Shree Shyam Comp Tech. 9811480287
 
top
Facebook Twitter google+ Whatsapp

भक्ति संग्रह


।। सूर्य षष्ठी ।। (डाला छठ)

chhat pooja

भारत के लिए बिहार प्रांत का सर्वाधिक प्रचलित एवं पावन पर्व है सूर्य षष्ठी। सूर्य षष्ठी मुख्य रूप से भगवान सूर्यनारा

II यमनदीप धनतेरस II

कार्तिक कृष्णा त्रयोदशी को सायंकाल में घृत का दीपक जलाकर सपरिवार-धान की खीली तथा बताशा रोली चावल आदि से दीपक का पूजन करें। इससे लक्ष्मी प्रसन्न होती है। फिर घर के बाहर आकर गोबर से

भाई-बहिन का निर्मल प्रेम (सुभद्रा चरित)

Bhai dooj
द्वारिका पुरी में मैया देवकी के मन में विचार आया। कन्यादान बिना दान व्यर्थ है। एक कन्या तो होनी ही चाहिए। भगवान श्रीकृष्ण ने अपनी मा

।। हनुमान जन्म-महोत्सव ।।

कार्तिक कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी को सायंकाल मेष लग्न में शिव जी ने अपने इष्टदेव की सेवा करने के लिये अवतार ग्रहण किया।

ऊर्जे कृष्ण चतुर्दश्यां भौमेस्वात्यां कप

।। यम द्वितीया भैया दूज ।।

कार्तिक मास शुक्ल पक्ष की द्वितीया को यमराज एवं चित्रगुप्त का दावात् कलम का पूजन करना चाहिए। यह कायस्थ जाति का बहुत बड़ा पर्व है।

मसि भाजन

।। भैयादूज।।

(यम यातना काटनें की कथा-यमुना चरित)- भगवान् सूर्य समस्त प्राणियों के कल्याण के लिये निरन्तर भ्रमण करते हैं। अपनी किरणों द्वारा खींचकर बरसाते हैं। धूप से संसार को जीवनदान एवं पवित

।। बलि पूजा-गोवर्धन अन्नकूट ।।

कार्तिक मास की प्रतिपदा को बलि राजा की पूजा करनी चाहिए। जो मनुष्य इस दिन बलि की पूजा करता है, वह वर्ष भर सुखपूर्वक रहता है। शालग्राम की शिला में सभी देवी-देवताओं का पूजन हो सकता है।<

।। नरक चतुर्दशी ।।

कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी को नरक चतुर्दशी कहते हैं। सनत्कुमार संहिता के आधार पर इसे पूर्व विद्धा लेनी चाहिए। इस दिन अरूणोदय से पहले प्रत्यूष काल में स्नान करने से मनु

।। दीपावली महोत्सव ।।

कार्तिक कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी को यदि अमावस्या आ जावे तो चतुर्दशी को, न आवे तो अमावस्या को दीपावली महोत्सव मनाना चाहिए। वामन भगवान ने आज के दिन सब देवों एवं लक्ष्मी को बलि राजा के

।। गोवर्धन पूजन ।।

इस दिन चौकी में मनुष्य के आकार का गिरिराज बनाकर पूजन करना चाहिए। रात्रि में गौ पूजन एवं बछड़े का पूजन तथा गायों को गुड़ मिठाई खिलाना चाहिए। ऐसा करने से गिरिराज भक्ति प्रदान करते हैं

bottom